Skip to main content

DIVIDEND वाले MUTAL FUNDS सही है क्या??


SOURCE - FINCASH.COM 
हमें STOCKS मैं DIVIDEND अच्छा लगता हैं। फिर हम MUTUAL FUNDS में DIVIDEND वाला OPTION क्यों पसंद नहीं करते, MUTUAL FUNDS भी तो एक तरह से STOCK MARKET की तरह ही काम करता हैं। शायद हम इसके बारे मैं जानते ही नहीं या फिर हमारे FINANCIAL ADVISOR कभी हमें इसके बारे मैं बताते ही नहीं। हम ज्यादातर इसे नकारते हैं, पर सोचो अगर ये नकार ने लायक होता तो ये सारी AMC COMPANIES ने ये DIVIDEND वाला OPTION क्यों रखा? 
LETS THROW SOME LIGHT ON IT. 

ये कैसे काम करता हैं?

आपके MUTUAL FUNDS की NAV आपके पैसों की PERFORMANCE दिखाती हैं। GROWTH वाले OPTION में NAV मतलब (PRICE + BONUS + EXPENSE RATIO + DIVIDEND), और DIVIDEND वाले OPTION में NAV मतलब (PRICE + BONUS + EXPENSE RATIO) वो DIVIDEND आपको REGULAR हर साल या हर महीने आपको मिलता रहता हे। अब जब आपको REGULAR DIVIDEND चुकाया जा रहा हे इस लिए आपके FUNDS  की NAV की PERFORMANCE GROWTH वाले OPTION की तुलना में कम होती हैं, पर DIVIDEND के REGULAR PAYMENTS से आपको अपने INVESTMENTS के पैसों का फल GROWTH वाले OPTION से पहले मिलने लगेगा। 

                Example:- 


Growth (RAM)
Dividend (SHYAM) 
Amount invested
10 lakhs
10 lakhs
Duration
5 years
5 years
NAV
20.00
18.00
Units allotted
50,000 units
55,555 units





Dividend detail
1st year - 55,555
2nd year – 83,332
3rd year – 1,11,110
4th year – 1,38,887
5th year – 1,66,665
Total -      5,55,549



After 5 yrs
20,11,357
18,70, 400

EXAMPLE  के अनुसार SHYAM को RAM से 5 साल बाद पैसे कम मिले, लेकिन SHYAM को जो 5 साल DIVIDEND मिला उससे उसके कई छोटे बड़े घर के खर्च आराम से निकल गए जिसकी जरुरत उसे उसी 5 सालो मैं थी और उसको RAM की तरह अपने पैसो के लिए 5 साल तक इंतज़ार नहीं करना पड़ा।

फायदे और नुकसान 

फायदे 

1. REGULAR INCOME के लिए सबसे मस्त OPTION 
2. आपको आपके पैसो के इस्तेमाल के लिए GROWTH OPTION की तरह INVESTMENT के END तक  इंतज़ार नहीं करना पड़ेगा 
3. DIVIDEND REINVESTMENT वाले रास्ते से आप DIVIDEND के पैसो को फिर से INVEST कर सकते  हो। 

नुकसान 

1. MUTUAL FUNDS के DIVIDENDS STOCK जैसे नहीं होते, वो आपकी NAV की PERFORMANCE  को हर भुगतान के बाद ज्यादा बढ़ने नहीं देते, जिससे ये एक तरह से PARTIAL REDEMPTION ही कहलाता है। 
2. DIVIDEND पर DDT यानि DIVIDEND DISTRIBUTION TAX लगता है जो तक़रीबन 10% की होती  हैं, तो इस से भी आपका DIVIDEND कम आता है। 
3. आपके RETURNS GROWTH OPTION से हमेशा कम ही रहेंगे। 


क्या करें?


देखिये दोनों अपनी जगह सही हैं, दोनों की जरुरत भी हे इसी लिए इनको बनाया गया है, आप अपनी जिंदगी के बड़े लक्ष्य के लिए GROWTH वाला OPTION पसंद करे जैसे आपका DREAM HOUSE, बच्चों का EDUCATION, LUXURIOUS CAR, और REGULAR INCOME के लिए DIVIDEND वाला OPTION पसंद करे जिससे आपके छोटे छोटे लक्ष्य जैसे की FAMILY HOLIDAY, HOUSE FURNITURE, 2 WHEELER की खरीदी। 

तो अब से अपने FINANCIAL ADVISOR  से अच्छे DIVIDEND वाले MUTUAL FUNDS के बारे मैं जरूर जानकारी प्राप्त करें। 

Comments

Popular posts from this blog

NPS - Must be or May be?

In a country like India, people do worry about their Retirement, so there is NPS (National Pension Scheme) as the name suggests pension it’s a retirement scheme, so it is a long term bet. Let’s find out what, why, who, where, how about NPS.
Q – Is this scheme for everyone? A – Yes, if your age is between 18-65 yrs. A resident of India and even NRI can also invest in NPS.
Q – How & where can I open my account? A - 1st – OFFLINE For government employees mostly there account open at the time of joining but if it’s not then you can contact at the nodal center in your department only, they will generate your PRAN (permanent retirement account number), it’s a unique and portable same like your PAN, and then you can invest.
For Non-Government employees, they need to go to POP (points of presence) center. Generally, they are authorized banks of your area, you have to submit your KYC documents, fill up the registration form, they will generate your PRAN, and then you can invest.
To know your nea…

आसान आदत से पैसे कैसे बचाएं??

ये BLOG उन लोगों के लिए नहीं हैं जो जन्म से ही अमीर है और जिन्हे FINANCIAL PLANNING  जैसे शब्द से दुर दुर तक कुछ लेना देना नहीं, पर ये BLOG उन लोगों के लिए बहुत उपयोगी है जो पैसों की SAVINGS करना तो चाहते है पर पता नहीं कैसे? या फिर उन लोगों के लिए जो हमेशा COMPLAIN करते रहते है की मेरे पास ENOUGH पैसे नहीं है की कुछ SAVE कर पाऊं या फिर वो लोग जिन्हे महीने के अंत तक पैसो की SHORTAGE रहती हैं।

पैसों को SAVE करने की HABIT कोई COMPLICATED चीज़ नहीं हैं, ये बहुत ही आसान है बस इसको REGULARITY नाम के शब्द से जोड़ दे और फिर देखिये कमाल!!!

ये HABIT को कैसे DEVELOPE करें? बहुत आसान है, आप अपने दिन के सभी खर्च की लिस्ट बनाये और फिर उसमे से वो बिनजरूरी, बेमतलब, फिज़ूल खर्च की तरफ गौर करें जिन्हे आप अगर शायद ना करते तो भी आपकी लाइफ मैं कुछ फर्क नहीं पड़ता, देखिये मैं आपको यहाँ कंजूस होने के लिए नहीं कह रहा हूँ, पर वो खर्च जिसे आप नहीं करोगे तो आपको नुकसान नहीं होगा बल्कि फायदा होगा पैसे बचाने का। और क्योंकि हमें LIST बनाने की आदत नहीं हैं ये फिज़ूल के खर्च को हम कभी TRACK ही नहीं कर पाते।

EXAMPLE - कुछ…